Top News देश - विदेश

आजतक मीडिया समाचार ✍️तीसा

आजतक मीडिया समाचार

✍️तीसा
उपमंडल चुराह में बर्फबारी के बाद भू-स्खलन के कारण सड़कों पर रफ्तार रुक गई है। चम्बा-तीसा मार्ग पर लगातार भू-स्खलन से आवाजाही रुक गई है। वीरवार को हुई बारिश के बाद मुख्य मार्ग मधुवाड़ के पास मांजूघार पर लगातार भू-स्खलन हो रहा है। हालांकि मार्ग बहाल करने के लिए लो.नि.वि. के कर्मचारी व निजी मशीनरी तैनात की गई है लेकिन लगातार गिर रहे पत्थर मार्ग बहाली में रोड़ा बने हुए हैं। शुक्रवार दोपहर को विभाग ने मार्ग बहाल कर दिया था लेकिन फिर से भू-स्खलन होने के कारण मार्ग बंद हो गया है, जिस कारण जिला मुख्यालय से चुराह का संपर्क कट गया है।

चम्बा-तीसा मार्ग पर भी जगह-जगह भू-स्खलन
चम्बा-तीसा मार्ग पर भी जगह-जगह भू-स्खलन ने आवाजाही पर विराम लगाया हुआ है। चम्बा-तीसा मार्ग पर चिल्ली, पंगोला, शिया नाला, मधुवाड़ व रखालू में लगातार भू-स्खलन हो रहा है। हालांकि विभाग द्वारा यहां मशीनरी तैनात की गई है परंतु लगातार भू-स्खलन के कारण मार्ग खोलने में परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। लो.नि.वि. बंद मार्गों को बहाल करने में जुटा है। लो.नि.वि. को बर्फबारी व बारिश के कारण अब तक करीब 8 करोड़ रुपए का नुक्सान उठाना पड़ा है।

विभाग के पास स्टाफ के साथ मशीनरी का भी अभाव
लो.नि.वि. मंडल तीसा के पास स्टाफ सहित मशीनरी का भी काफी अभाव है। मंडल के पास एकमात्र जे.सी.बी. है, जो काफी पुरानी है। इसके साथ ही विभाग के पास पर्याप्त स्टाफ भी नहीं है। मंडल तीसा के तहत 3 उपमंडल हैं। इन तीनों उपमंडलों में 2-2 कनिष्ठ अभियंता के पद भी रिक्त हैं। इसके बावजूद मार्ग को बहाल करना विभाग की कार्य दक्षता को दर्शाता है।

यातायात आवाजाही में रोड़ा बना भू-स्खलन
बर्फबारी के बाद जैसे ही सड़कों पर आवाजाही शुरू हुई उसके साथ जगह-जगह भू-स्खलन ने भी परेशानियां खड़ी करना शुरू कर दीं। सबसे ज्यादा परेशानी चम्बा-तीसा मार्ग पर आ रही है। जगह-जगह भू-स्खलन से मार्ग अवरुद्ध हो रहे हंै। उक्त मार्ग पर चिल्ली, पंगोला, मधुवाड़, मांजूघार व रखालू में भू-स्खलन हो रहा है, जहां मार्ग खोलने के लिए विभाग ने मशीनरी भी तैनात कर रखी है। नकरोड़-चांजू मार्ग पर कठवाड़ घार व मंगली सड़क पर जुनास घार विभाग के लिए सिरदर्द बनी हुई है।

निजी ठेकेदारों के वारे-न्यारे
लो.नि.वि. मंडल तीसा के पास मशीनरी का काफी अभाव है। मंडल तीसा की बंद सड़कों को खोलने के लिए विभाग को मजबूरन निजी मशीनरी ठेके पर लेनी पड़ती है, जिससे विभाग को बारिश व बर्फबारी में करोड़ों रुपए का भुगतान करना पड़ता है। यदि विभाग के पास अपनी मशीनरी हो तो काफी हद तक विभाग को लगने वाली करोड़ों रुपए की चपत से राहत मिल सकती है।

विभाग को समय पर नहीं मिलती मदद
उपमंडल चुराह में कई लघु विद्युत परियोजनाएं काम कर रही हैं। लो.नि.वि. की सड़क के माध्यम से अरबों रुपए की मशीनरी परियोजनाओं में स्थापित की जाती है लेकिन समय पर परियोजनाओं द्वारा भी लो.नि.वि. की मदद नहीं की जाती है। बर्फबारी के दौरान करीब 8 दिन लगातार ठेकेदारों की मशीनरी सड़कों को बहाल करने में लगी रही लेकिन परियोजनाओं द्वारा विभाग द्वारा प्रार्थना करने पर भी मशीनरी नहीं दी गई। परियोजनाओं द्वारा कहीं तेल खत्म होने तो कहीं हैल्पर न होने की बात कर आनाकानी की गई।

विभाग के पास महज एक ही जे.सी.बी.
लो.नि.वि. मंडल तीसा के अधिशासी अभियंता हर्ष पुरी ने बताया कि लो.नि.वि. मंडल तीसा के दायरे में आने वाली सड़कों की लंबाई बेहद अधिक है तो साथ ही इस मंडल की आधे से ज्यादा सड़कें बर्फ वाले क्षेत्रों के दायरे में आती हैं। इस वजह से सड़कों को खोलने में समय लग रहा है। इन सड़कों को खोलने के लिए विभाग के पास अपनी महज एक ही जे.सी.बी. मौजूद है। इस स्थिति में विभाग द्वारा 12 जे.सी.बी., 1 लोडर व 2 पोकलेन किराए पर हायर की गई हैं। क्षेत्र में अब कोई भी निजी मशीन नहीं बची है, जिसके चलते विभाग से 2 जे.सी.बी. मशीनें मुहैया करवाने की मांग की गई है।

बजट सत्रः आईजीएमसी फेस-टू के लिए नहीं हुआ भूमि अधिग्रहण

शिमला
इंदिरा गांधी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल फेस टू के लिए अभी तक भूमि अधिग्रहण का काम पूरा नहीं हुआ है। राजस्व विभाग द्वारा इंतकाल करने के बाद ही प्रक्रिया शुरू होगी। विधायक अनिरूद्ध सिंह द्वारा पूछे गए एक सवाल के जवाब में स्वास्थ्य मंत्री अधिकृत वन मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने यह जानकारी सदन को दी। उन्होंने कहा कि चम्याणा में सुपर स्पेशलिटी वार्ड का काम जोरों पर हैं। जहां पर भविष्य में आईजीएमसी से कैंसर अस्पताल को शिफ्ट करने का भी प्रस्ताव है। गोविंद सिंह ठाकुर ने कहा कि यहां ट्रॉमा सेंटर सहित कई अन्य सुपर स्पेशलिटी यूनिट स्थापित की जानी है। उन्होंने कहा कि आईजीएमसी फेस टू भवन के लिए जैसे ही भूमि अधिग्रहण का काम पूरा होगा, उसके बाद ही डिजाइन तैयार होगा। विधायक अनिरूद्ध सिंह ने कहा कि इसके लिए पूर्व की कांग्रेस सरकार ने 52 बीघा जमीन देखी थी। तीन केस एफआरए और कुछ एफसीए में लंबित हैं। इसके लिए प्रदेश सरकार समय रहते प्रक्रिया शुरू करें। उन्होंने प्रदेश सरकार से मांग की है कि आईजीएमसी का कैंसर अस्पताल को भी चम्याणा सुपर स्पेशलिटी भवन में शिफ्ट करें, ताकि मरीजों को ठंड से राहत मिल सके। वहीं दूसरी तरफ विधायक विक्रमादित्य सिंह द्वारा पूछे गए एक लिखित सवाल के जवाब में प्रदेश सरकार ने कहा है कि सुन्नी सामुदायिक अस्पताल में 21 पद खाली चल रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग द्वारा दी गई जानाकरी के मुताबिक सीएच सुन्नी में मेडिकल ऑफिसर के चार, स्टाफ नर्स के चार, लैब तकनीशियन के दो, फार्मासिस्ट के दो, क्लर्क के दो, मिडवाईफ के दो और सफाई कर्मचारी के एक पद खाली चल रहे हैं।

शिमला ग्रामीण डिग्री कॉलेज में 28 पद खाली
शिमला ग्रामीण विधानसभा क्षेत्र में शिक्षा के क्षेत्र में सैकड़ों पद खाली चल रहे हैं। विधायक विक्रमादित्य सिंह द्वारा पूछे एक लिखित सवाल के लिखित जवाब में शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज ने खाली पदों का ब्यौरा दिया है। इनमें राजकीय डिग्री कॉलेज में 28 पद खाली हैं। जिसमें एक पद प्रधानाचार्य, 10 पद असिस्टेंट प्रोफेसर सहित कुल 28 पद खाली हैं। इसी तरह से वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल में सबसे अधिक 178 पद खाली चल रहे हैं। वहीं, हाई स्कूल में 24, माध्यमिक स्कूल में 66, प्राथमिक पाठशाला में छह, डाइट शामलाघाट में छह और ब्लॉक प्रारंभिक शिक्षा कार्यालय सुन्नी में 12 पद खाली हैं।

काँग्रेस में हरदीप बावा, पूर्ण चंद की एंट्री सिरे से खारिज, 47 को बिठाया गोद में

शिमला
कांग्रेस ने 47 ही नेताओं की वापसी के लिए अपने दरवाजे खोले हैं, जबकि चार लोगों के आवेदन सिरे से खारिज कर दिए हैं। इसी तरह 23 ऐसे नाम हैं, जिन्हें पेंडिंग रखा गया है, कुल 74 नामों पर चर्चा हुई। जिनकी वापसी सिरे से खारिज की गई है, उनमें इंटक के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष बावा हरदीप सिंह, द्रंग से पूर्ण चंद ठाकुर, नालागढ़ से प्रिंस शर्मा व उजागर सिंह शामिल हैं। नाचन से पूर्व विधायक टेक चंद डोगरा, करसोग से पूर्व विधायक मस्त राम, मंडी से रंगीला राम राव व धर्मशाला से दिग्विजय पुरी वे प्रमुख नाम हैं, जिनकी पार्टी में वापसी कर ली गई है।
जबकि शिमला शहरी से हरीश जर्नाथा, रामपुर से सिंघी राम, लाहुल स्पीति से राजिंद्र करपा के नाम पेंडिंग लिस्ट में डाल दिए गए हैं। इस बाबत पार्टी कार्यालय राजीव भवन में सहप्रभारी गुरकीरत सिंह कोटली की अध्यक्षता में बैठक हुई, जिसमें कमेटी के दो अन्य सदस्य विद्या स्टोक्स और जीएस बाली भी मौजूद रहे। बैठक में निर्णय लिया गया कि जिन नामों पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं की तरफ से कड़ी आपत्ति है और जिनके विरूद्ध न्यायिक मामले हैं, कमेटी का यह विचार है कि ऐसे लोगों को पार्टी में वापस लाना हित में नहीं होगा। अतः उनके आवेदनों को सिरे से खारिज किया गया है। कमेटी ने यह भी कहा है कि जिन्हें अभी कुछ आशंका है वे लोग 7 दिन के अंदर कमेटी के समक्ष अपनी बात रख सकते हैं।

इनके लिए कांग्रेस ने खोले दरवाजे
इंदौरा से मलेंद्र राजन, नाचन से नरेश कुमार, शाहपुर से कर्ण परमार, आनी से कुलवंत राज कश्यप, सरकाघाट से अर्जुन सिंह कौंडल, नाचन से पूर्व विधायक टेक चंद डोगरा, नाचन से ही संजू डोगरा, गगरेट से देवी लाल, बल्ह से बलदेव सिंह, ज्वालामुखी से हरीश कपूर, शाहपुर से बलबीर चौधरी, करसोग से पूर्व विधायक मस्त राम, धर्मशाला से हरि राम बराली, जोगिंद्रनगर से पूर्व विधायक सुरेंद्र पाल ठाकुर, ज्वालामुखी से राजेश शर्मा, अनिल प्रभा शर्मा, कांगड़ा से विजेंद्र कुमार, धर्मशाला से अरुण विष्ट, रजनेश पाधा, मंडी सदर देवेंद्र शर्मा, सरकाघाट से योग राज ठाकुर, ब्रहम दास, रमेश ससवाल, अखिल गुप्ता, उषा शर्मा, उमा देवी, उमावति, सूरत राम, मनोज कुमार, कश्मीर सिंह, लाहुल स्पीति से पूर्व विधायक रघवीर सिंह ठाकुर, सुजानपुर से कुलदीप सिंह बेदी, मंडी से रंगीला राम राव, शिमला से जेन्नी प्रेम, शशि शेखर (चिन्नू), अशोक सूद, मलकीयत सिंह, नाहन से विश्वराज चौहान, चंबा से शैवांक शर्मा, जवाली से नरेश कुमार शामिल हैं। धर्मशाला से दिग्विजय पुरी, ऊना से राजीव गौतम, कुठलेहड़ से शिव हरिपाल, पच्छाद से रत्न सिंह कश्यप, करसोग से मस्त राम, ज्वालामुखी से विजेंद्र धीमान व चाहड़ी से पंकज कुमार को वापस लिया गया है।

इन नामों पर अभी नहीं बनी सहमति
आनी से उपेंद्र कांत मिश्रा, ठियोग से अतुल शर्मा, मंडी से योग राज ठाकुर, अर्जुन कौंडल, अनिल शर्मा, जगदीश वर्मा, अर्चना धीमान, अनिता ठाकुर, मीनू चौहान, हरजीत सिंह, अतुल गौतम, नालागढ़ से महेश गौतम, सोलन से राज रानी, करसोग से शीला ठाकुर, मंडी से रामेश्वर राम, बिलासपुर से सतपाल शर्मा, घुमारवीं से सुभाष ठाकुर, मंडी से दिले राम ठाकुर, लाहुल स्पीति से दीपक ठाकुर के नाम पर अभी सहमति नहीं बनी है। इसके अलावा शिमला शहरी से हरीश जर्नाथा, रामपुर से सिंघी राम, लाहुल स्पीति से राजिंद्र करपा के नाम पर भी अभी निर्णय नहीं हो पाया है।

शहीद तिलकराज की पत्नी को जयराम सरकार देगी सरकारी नौकरी

जवाली
जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आतंकी हमले में शहीद हुए तिलक राज की पत्नी सावित्री देवी को प्रदेश सरकार सरकारी नौकरी प्रदान करेगी। सीएम जयराम ठाकुर ने ये बात आज शहीद तिलक राज के अंतिम संस्कार में शामिल होने के बाद पत्रकारों से बातचीत में कही। उन्होंने शहीद के पिता लायक राम, माता, पत्नी और परिवार के अन्य सदस्यों को सांत्वना देते हुए कहा कि शहीद तिलक राज ने देश की खातिर अपना जीवन लगा दिया और दुख की इस घड़ी में प्रदेश सरकार परिवार के साथ एकजुट है। उन्होंने कहा कि उन्हें जो भी सहायता की आवश्यकता होगी, हम देंगे।
इसके साथ सीएम ने मिडल स्कूल धेवा का नाम शहीद तिलक राज के नाम पर रखे और उसका दर्जा बढ़ा कर हाई स्कूल करने की भी बात कही। सीएम ने कहा कि इस समय देश व प्रदेश में पाक के खिलाफ लोगों में रोष है। पाकिस्तान समर्थित आतंकवादियों द्वारा सैनिकों की हत्या कायरतापूर्ण कार्य है। उन्होंने कहा कि भारत सरकार इस प्रकार के नापाक इरादों को सफल नहीं होने देगा और देश पाकिस्तान को इसका करारा जवाब दिया जाएगा। जयराम सरकार इससे पहले शहीद के परिवार को 20 लाख रूपए की आर्थिक मदद देने का एलान कर चुकी है।

बजट सत्रः होम सर्किल में सेवाएं देने वाले अधिकारियों का होगा तबादला

शिमला
प्रदेश में अपने गृह वित्त यानि होम सर्किल में सेवाएं देने वाले अधिकारियों का सरकार जल्द तबादला करेगी। यह जानकारी सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर ने प्रश्नकाल के दौरान सदन को दी। कहा कि इस संबंध में सीएम जयराम ठाकुर से चर्चा कर उन्हें लोकसभा चुनाव से पूर्व बदल दिया जाएगा। विपक्ष के नेता मुकेश अग्निहोत्री व जगत सिंह नेगी ने इस मामले को सदन में उठाया। मुकेश ने कहा कि 6 अधीक्षण अभयंताओं को अपने ही गृह वित्त में लगाने की सरकार की क्या मजबूरी है। महेंद्र सिंह ठाकुर ने कहा कि इस संबंध में सीएम से चर्चा कर कदम उठाया जाएगा।

रेखा कौशल (शिमला)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *