आज हमारा समाज किस दिशा में जा रहा है जहाँ मासूम बच्चियों को भी नही बख्स रहे हैं लोग।

: ये हम कैसा मध्ययुगीन काल समाज बना रहे हैं।अलीगढ़ में ढाई साल की मासूम बच्ची के साथ दुष्कर्म कर जघन्य हत्या, उज्जैन में पांच साल की बच्ची का अपहरण करने के बाद दुष्कर्म कर हत्या करने के बाद शव नदी में फेंका गया, भोपाल में मुंह बोले दादा ने नौ साल की बच्ची के साथ दुष्कर्म किया, धार में काका ने नाबालिग भतीजी के साथ किया दुष्कर्म का प्रयास। यह सिर्फ एक दिन की बात नहीं है। रोज सुबह अखबार उठाने के बाद पहले पेज पर एक न एक ऐसी खबर अवश्य मिलेगी। कई मामलों में तो अवयस्क नवयुवकों ने ही ऐसे जघन्य कांडों को अंजाम दिया है और दुष्कर्म को छिपाने के लिये निर्दोष मासूम बच्ची की हत्या भी कर दी है।

कठुआ कांड शायद कई लोगों की स्मृति से विस्मृत हो गया हो! कठुआ कांड की निर्दोष बच्ची के परिजनों को अभी तक न्याय नहीं मिला है। आपको याद दिलाने के लिये बता दूं कि कठुआ कांड के बाद एक राजनीतिक दल विशेष के विधायक और उनकी वाहिनी ने अपराधियों को बचाने के लिये सड़कों पर आंदोलन तक किया था।

यह पार्टी चरित्र निर्माण की बड़ी-बड़ी बातें करती है। उसी पार्टी का एक सांसद जो खुद को ‘महाराज’ कहता है, सामूहिक रेप के आरोप में बन्द अपनी पार्टी के विधायक को चुनाव में मिली जीत के बाद सहयोग के लिये बधाई देने जेल में जाता है। उसी पार्टी की एक और सांसद जो खुद को ‘साध्वी’ कहती है, दुष्कर्म के आरोप में आजन्म कारावास भोग रहा कुख्यात अपराधी आसाराम को निर्दोष बताती है और उसके शीघ्र जेल से छूटने की कामना करती है। यह कैसा चरित्र निर्माण का अभियान देश में चल रहा है और हमारा देश किधर जा रहा है?
*अलीगढ़🔪 मर्डर: साध्वी प्राची🙍 बोलीं- दोषियों को पेट्रोल⛽ डालकर सड़कों पर जिंदा जलाया🔥 जाए*

अलीगढ़ में ढाई साल की मासूम बच्ची की हत्या के मामले को लेकर विश्व हिंदू परिषद की नेता साध्वी प्राची का गुस्सा फूटा। शनिवार को बागपत के बड़ौत पहुंची साध्वी प्राची ने कहा, ढाई साल की बच्ची की निर्मम हत्या के मामले में दोषियों को कड़ी सजा दी जाए।

साध्वी ने कहा कि दोषियों को पेट्रोल डालकर सड़कों पर जिंदा जलाया जाए। उन्होंने सीएम योगी आदित्यनाथ से मांग करते हुए कहा कि बदमाशों का नहीं बल्कि बलात्कारियों का एनकाउंटर किया जाए। इससे पहले पीड़ि‍ता की मां ने मोदी और योगी सरकार से मांग की है कि दोषियों को कड़ी सजा दी जाए। अगर दोषियों को केवल 7 साल की सजा दी जाएगी, तो वे जेल से छूटकर और अपराध करने को प्रोत्साहित हो सकते हैं।

गौरतलब है कि टप्पल इलाके में पैसे के लेन-देन को लेकर हुए विवाद के कारण ढाई साल की एक बच्ची की हत्या करके उसका शव कूड़े के ढेर में डाल दिया गया था। बच्ची के पिता की शिकायत पर जाहिद और असलम को गिरफ्तार किया गया है। डीजीपी (लॉ एंड ऑर्डर) आनंद कुमार ने बताया कि फास्ट ट्रैक बेसिस पर जांच करने के लिए दल में फॉरेंसिक साइंस टीम, स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप और एक्सपर्ट्स की एक टीम भी होगी।

आजतक मीडिया रिपोर्टर अलीगढ़ से

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *