जयपुर राजस्थान

चिकित्सा मंत्री झूठ बोलते है-भाजपा विधायक देवनानी।

राजस्थान ;-बहुचर्चित कम्युनिटी हेल्थ वर्कर के 2500 पदों पर भर्ती के प्रकरण में चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा का ही झूठ उजागर नहीं हुआ, बल्कि चिकित्सा विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव रोहित कुमार का भी झूठ सामने आया है। पूर्व मंत्री और भाजपा के तेज तर्रार विधायक वासुदेव देवनानी ने बताया कि 2500 पदों की भर्ती के प्रकरण से जुड़े दस्तावेज बताते है कि राज्य के चिकित्सा विभाग ने 15 जनवरी 2019 को केन्द्र सरकार को प्रस्ताव भेजा और 31 जनवरी को स्वीकृति भी आ गई। इस स्वीकृति पर 26 अप्रैल को राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की वर्किंग कमेटी की बैठक की अध्यक्षता विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव रोहित कुमार ने ही की। इतना ही नहीं बैठक के मिनिट्स भी रोहित कुमार की सहमति से जारी हुए। ऐसे में एसीएस कैसे कह सकते हैं कि उन्हें 2500 पदों पर भर्ती की जानकारी नहीं है। वैसे भी 16 मई को दैनिक भास्कर राजस्थान पत्रिका जैसे प्रमुख अखबारों में भर्ती का विज्ञापन प्रदर्शित हुआ। इतना ही नहीं चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा ने तो चिकित्सा कर्मियों का एक ज्ञापन मिशन के एमडी समित शर्मा को भेजा था। देवनानी ने कहा कि इस मामले में सिर्फ चिकित्सा मंत्री ही झूठ नहीं बोल रहे, बल्कि अतिरिक्त मुख्य सचिव स्तर के अधिकारी भी झूठ बोल रहे हैं। उल्लेखनीय है कि भर्ती में भ्रष्टाचार की खबरें आने के बाद रघु शर्मा और रोहित कुमार ने कहा था कि भर्ती की जानकारी नहीं है। मंत्री और एसीएस ने सारी जिम्मेदारी मिशन के एमडी समित शर्मा पर डाल दी।
चिकित्सा मंत्री जांच करवाएं:
देवनानी ने कहा कि चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा ने स्वयं स्वीकार किया कि भर्ती में भ्रष्टाचार हो रहा था। देवनानी ने कहा कि अब भ्रष्टाचार की जांच मंत्री को करवानी चाहिए। भाजपा इस मुद्दे को छोड़ेगी नहीं, क्योंकि चिकित्सा मंत्री के रवैये की वजह से प्रदेश को करीब 600 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ। यह राशि केन्द्र सरकार से मिलने वाली थी। 2500 चिकत्साकर्मी रोजगार से वंचित हो गए हैं। विधानसभा के शुरू होने पर इस मामले को फिर से उठाया जाएगा।
एस.पी.मित्तल) आजतक मीडिया रिपोर्टर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *