अलवर गोविंद गढ़ राजस्थान

श्रीकृष्ण का जन्म होते ही भक्त हुये प्रफुल्लित।

 

पत्रकारयोगेन्द्र द्विवेदी (गोविन्दगढ़)_

गोविंदगढ़ (अलवर, राज.) – कस्बे में जन्माष्टमी के मौके पर अनेक धार्मिक कार्यक्रम आयोजित हुए, सबसे ज्यादा भीड-भाड कस्बे के निकटवर्ती गाँव रामबास में स्थित राधा कृष्ण मंदिरों पर आयोजित भजन संध्या कार्यक्रमों में थी मंदिर को अंदर से बाहर की तरफ से लाल हरे और ना रंगी गुब्बारों एवं रंगीन लाईटो से विशेष रूप में सजाए गए, श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर मंदिरों को भव्य रूप में सजाया गया, जिससे मंदिरों की सुंदरता में चार चांद लग गएl
भगवान श्री कृष्ण का जन्मोत्सव पर्व शनिवार को पूर्ण श्रद्धा और आस्था के साथ मनाया गया। पर्व को लेकर लोग सुबह से ही उल्लासित नजर आए, अवकाश के चलते बाजारों में भी सुबह से ही बहुत ज्यादा रही, कोई कान्हा के लिए झूला खरीद रहा था तो कोई सुंदर पोशाक घरों में भी छोटे-छोटे बाल गोपाल और राधा कृष्ण दिखाई देने लगे बाल गोपाल की ओर से गली मोहल्लों में दही हांडी प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया
मंदिरों में दिनभर भगवान कृष्ण के जन्म को लेकर भक्ति का रस बरसता रहा भक्ति भाव से श्रद्धालु दर्शन को आतुर रहे जिससे मंदिरों में रौनक बनी रहे, अपने पूज्य श्री कृष्ण की एक झलक पाने को लोग बड़ी बेताबी से इंतजार करते दिखाई दिए जैसे-जैसे श्री कान्हा के जन्म का समय नजदीक आने लगा लोगों उत्सुकता बढ़ने लगी मंदिरों की और भक्तों की कतार बढ़ने लगी

प्रभु के दर्शन का इंतजार रात्रि 12:00 बजे खत्म हुआ जैसे ही श्री कृष्ण का जन्म हुआ नंद घर आनंद भयो जय कन्हैया लाल की स्वर के जयकारे, घंटे घड़ियाल शंख आदि गूंजने लगे कान्हा के रूप में नन्हे से बाल गोपाल को पालने में विराजित किया गया। भगवान को माखन मिश्री, 108 किलो पंजीरी का भोग लगाया, भक्तों ने श्री कृष्ण के दर्शन कर आरती की और प्रसादी ग्रहण कर अपना व्रत खोला। पुजारी ने श्री कृष्ण की महिमा एवं जीवन कथा का वाचन किया एवं सभी श्रद्धालुओं को श्री कृष्ण की तरह सच्चाई की राह पर चलने एवं अपने जीवन को सरल सफल बनाने की बात कही।

भजन संध्या में झूमने लगे भक्त
साय: काल युवाओं ने भक्ति में संगीत एवं रास लीलाओं का आयोजन किया, राधा-कृष्ण मंदिर में भक्ति संध्या का आयोजन हुआ सीकरी के प्रसिद्ध कलाकार राजकुमार शर्मा एवं मंडली द्वारा भक्तिमय संगीत एवं सांस्कृतिक प्रोग्रामो मे सुदामा चरित्र, राधा-कृष्ण रासलीला, सांवरिया सेठ का ग्वाला एवं श्याम का लाडला (कैंडल) झांकियां प्रस्तुत की गई जिन्हें देखकर दर्शक मंत्रमुग्ध हो गए। भजन गायकों ने भक्ति गीतों से ऐसा माहौल बना दिया कि श्रद्धालु गायको के स्वर से स्वर मिलाने के लिए मजबूर हो गए शाम से ही श्रद्धालुओं का आना शुरू हो गया रामबास में स्थित जालूकी रोड पर कलाधारी आश्रम मंदिर में अखंड संकीर्तन का आयोजन किया गया जिसमें श्रद्धालुओं ने हरे रामा हरे कृष्णा की रामधुन का अखंड पाठ किया

गोविंदाओं ने मटकी फोड़ प्रतियोगिता में दिखाया उत्साह।

शनिवार को श्री कृष्ण जन्माष्टमी का पर्व बड़ी आस्था के साथ मनाया गया धार्मिक स्थलों पर सुबह से ही भीड़-भाड़ दिखाई देने लगी मंदिरों में महिलाओं द्वारा भजन कीर्तन आदि का आयोजन किया जाने लगा

वही कलाधारी आश्रम मंडली रामबास द्वारा ठंडे पानी की छबील लगाई गई जिसमें श्रद्धालुओं एवं राहगीरों को राहगीरों को शरबत एवं नींबू शिकंजी पिलाई गई। साय:काल रामबास राधा कृष्ण मन्दिर पर दही हांडी (मटकी फोड़) प्रतियोगिता का आयोजन किया गया जो बहुत ही आकर्षण का केंद्र रहा जिसमें कई गोविंदाओं की टीमों ने भाग लिया सभी ने मटकी फोडने के लिए अपने अपने प्रयास किए, मटकी फ़ोड प्रतियोगिता में रामबास की टीम ने तेज पानी की फुहारों में काफी मशक्कत के बाद मटकी फोड़ कर जीत हासिल की पुजारी ने विजेता टीम को 1100 रुपये का पुरस्कार देकर सम्मानित किया।

संतोष कुमार निरंजन संपादक आजतक मीडिया।

aajtakmedia
aajtakmedia
संपादक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *