[t4b-ticker]
उत्तरप्रदेश कालपी जालौन

कोरोना की जांच की डर से सरकारी अस्पताल नहीं पहुंच रहे मरीज।

संपादक – संतोष कुमार निरंजन

कालपी (जालौन) सरकारी अस्पतालों में कोरोना की जांच को लेकर मरीजों की संख्या काफी कम हो गई है। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कालपी मैं जो भी मरीज अपने इलाज के लिए जाता है उसकी पहले कोरोना जांच कराई जाती है जिस वजह से सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में मरीजों की संख्या काफी कम हो गई है।

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कालपी में कोरोना जांच की वजह से मरीजों की संख्या में काफी गिरावट आ गई है। जो भी मरीज चाहे उसे किसी अपनी चोट का इलाज कराना हो अथवा कुत्ते व बंदर आदि के काट लेने पर अस्पताल में एंटी रेबीज इंजेक्शन लगवाना हो तो भी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में पहले कोरोना की जांच कराना होती है इसके बाद ही उसे अस्पताल के भीतर दाखिल किया जाता है। ऐसी स्थिति में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में मरीजों की संख्या काफी कम हो गई है। जिन मरीजों के कोरोना के कोई भी लक्षण ना होने के बाद भी यदि रैपिड एंटीजन टेस्ट के द्वारा जांच कराए जाने से लोगों में भय एवं दहशत क्राइम हो जाती है। जिस वजह से बीमार होने के बाद भी लोग सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र जाने से कतर आने लगे हैं। पूर्व में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में 500 से 600 लोगों की ओपीडी प्रतिदिन होती थी जो अब मात्र एक सैकड़ा मरीजों तक ही सीमित रह गई है। ज्यादातर मरीज अब इलाज कराने के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ना जाकर प्राइवेट डाक्टरों से अपना इलाज कराने को मजबूर हो रहे हैं।

Related posts

मंदिर के पास गंदगी का ढेर, भक्त गण परेशान।

aajtakmedia

ब्रज यातायात एवं पर्यावरण जनजागरूकता समिति रजि उत्तर प्रदेश के द्वारा मथुरा में चलाई गई मुहिम का मथुरा की सांसद श्रीमती हेमा मालिनी ने लिया संज्ञान, समिति ने किया स्वागत।

aajtakmedia

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव नामांकन प्रक्रिया में जिला अधिकारी और पुलिस अधीक्षक ने किया नामांकन स्थलों का दौरा।

aajtakmedia

Leave a Comment