[t4b-ticker]
Top News उत्तरप्रदेश कानपुर

‘महुआ डाबर एक्शन’ के जनविद्रोहियों को दी सलामी।

संपादक – संतोष कुमार निरंजन

कानपुर यूपी। गणतंत्र दिवस के अवसर पर इतिहास कालखंड से भुला दिए गए महुआ डाबर एक्शन के रणबांकुरों को सलामी दी गई। क्रांतिवीर पिरई खां स्मृति समिति ने आयोजन कर जंग-ए-आजादी योद्धाओं को शिद्दत से किया। जहां भारतीय आजादी आंदोलन 1857 के महानायकों को समर्पित फोटो प्रदर्शनी भी लगाई गई। आजाद भारत में महुआ डाबर एक्शन के महानायकों को बिसरा दिया गया। देश की सरकारों ने न तो महुआ डाबर के शहीदों की याद में न तो कोई स्मारक बनवाया और न ही स्थानीय जिला प्रशासन ने क्रांतिकारियों जुड़े इस गौरवशाली धरोहर को संरक्षित करने की कोई पहल की।

आजादी आंदोलन में गुलामी की बेडियां तोड़ने और फिरंगियों से दो-दो हाथ करने के लिए यह पूरा इलाका एकजुट हो गया। धानेपुर स्टेट पिरई खां के नेतृत्व में लाठी-डंडे, तलवार, फरसा, भाला, किर्च आदि लेकर यहां के रहवासियों की टुकड़ी ने मनोरमा नदी पार कर रहे अंग्रेज अफसरों पर 10 जून 1857 को धावा बोल दिया। जिसमें लेफ्टिनेंट लिंडसे, लेफ्टिनेंट थामस, लेफ्टिनेंट इंगलिश, लेफ्टिनेंट रिची, लेफ्टिनेंट काकल और सार्जेंट एडवर्ड की मौके पर मौत हो गई थी। तोपची सार्जेंट बुशर जान बचाकर भागने में सफल रहा। उसने ही घटना की जानकारी वरिष्ठ अफसरों को दी। इस क्रांतिकारी घटना से ब्रिटिश सरकार हिल गई। आखिरकार 20 जून 1857 को पूरे जिले में मार्शल ला लागू कर दिया गया था। 3 जुलाई 1857 को बस्ती के कलक्टर पेपे विलियम्स ने घुड़सवार फौज की मदद से महुआ डाबर गांव को घेरवा लिया। घर-बार, खेती- बारी, रोजी- रोजगार सब आग के हवाले कर तहस- नहस कर दिया गया। इस गांव का नामो निशान मिटवा कर ‘गैरचिरागी’ घोषित कर दिया। यहां पर अंग्रेजो के चंगुल में आए निवासियों के सिर कलम कर दिए गए। इनके शवों के टुकड़े-टुकड़े करके दूर ले जाकर फेंक दिया गया। इतना ही नहीं अंग्रेज अफसरों की हत्या के अपराध में क्रांतिकारी नेताओं का भेद जानने के लिए गुलाम खान, गुलजार खान पठान, नेहाल खान पठान, घीसा खान पठान व बदलू खान पठान आदि क्रांतिकारियों को 18 फरवरी 1958 सरेआम फांसी दे दी गई थी।

महुआ डाबर एक्शन के साथ देश की आजादी के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले ज्ञात-अज्ञात बलिदानियों को खिराज-ए-अकीदत पेश किया गया। इस अवसर पर कार्यक्रम के संयोजक अदिल खान के साथ गौहर अली, संगम कुमार, एजाज अहमद, अरविंद, नासिर खान, दिलशाद अहमद, अतीक अहमद, सुजीत कुमार, आलम सादिक, ह्दयनाथ, सूफियान अंसारी, मूलचंद, नुरूल हसन ने अपनी बात रखी।

मंडल ब्यूरो वीरेंद्र सिंह सेंगर।

Related posts

जिलाधिकारी की अध्यक्षता में हुई जिला बृक्षारोपण समिति की बैठक।

aajtakmedia

समाजसेवी संस्था द्वारा कराया जा रहा नगर वासियो का मुफ्त इलाज।

aajtakmedia

तीन दिवसीय स्काउट गाइड तृतीय सोपान का हुआ समापन समारोह।

aajtakmedia

Leave a Comment