[t4b-ticker]
उत्तरप्रदेश कालपी जालौन

उत्पाती एवं कटखने बंदरों से नागरिक त्रस्त, प्रशासन नहीं ले रहा सुध।

संपादक – संतोष कुमार निरंजन

 

कालपी (जालौन) प्रशासन के उपेक्षा बरतने के कारण स्थलीय नगर के सभी मोहल्ले मे कटखने बन्दर एवं उत्पाती बंदरों के विचरण से नागरिकों को भारी कठनाईयो से गुजरना पड़ रहा है। नागरिकों के तमाम बार मांग करने के बाबजूद सरकारी महकमे के ज़िम्मेदारो के द्वारा कोई प्रबंध नहीं कराये गये है।

उल्लेखनीय हो कि बीते एक दशक से कालपी के रिहायशी एवं व्यावसायिक इलाकों टरननगंज बाजार, स्टेशन चौराहा, जुलेहठी, रावगंज, मिर्चामंडी, बड़ा बाजार, रामचबूतरा आदि स्थानों मे बंदरों के विचरण करने का सिलसिला शुरू हुआ धीमे – धीमे उत्पाती बंदरों का आतंक हर जगह हो गया। इतना ही नहीं घरो मे टंगे कपडे एवं सामानो को उठाकर ले जाने तथा क्षतिग्रस्त करने के तमाम मामले सामने आ चुके है। सड़को मे झोलो मे सामान ले जा रहे राहगीरों, महिलाओ तथा बच्चो के झपट्टा मारकर छीनने तथा बर्बाद करने की रोजाना अनगिनत वारदाते होती रहती है।

कई वर्ष पहले तत्कालीन एस. डी. एम. गोरेलाल शुक्ला की मौजूदगी मे नगर पालिका वन विभाग तथा पुलिस अफसरों की मौजूदगी मे तय किया गया था कि अवारा एवं उत्पाती बंदरों को पकड़ने के लिये मथुरा से टीम बुलाई जाये लेकिन कोई योजना अमल मे नहीं लाई जा सकी फलस्वरूप समस्या बढ़ती जा रही है।

बंदरों के उत्पात से तीन महिलाओ की जा चुकी है जान।

उत्पाती एवं कटखने बंदरों के हमले से कई बड़ी घटनाये हो चुकी है। आलमपुर खोवा मंडी के पास गली से गूजर रही पाल समाज की दो महिलाओ के ऊपर छत की दीवाल को बंदरों ने हिला कर गिरा दिया था फलस्वरूप महिलाओ की मौत हो चुकी थी। इसी प्रकार कागजीपुरा मोहल्ले मे कटखने बन्दर के हमले से घबराकर महिला के छत से गिरने से मौत हो चुकी है।

Related posts

आटा पुलिस ने सघन वाहन चेकिंग चलाकर लोंगो को किया जागरूक।

aajtakmedia

मुख्य बाजार में आवारा पशुओं के विचरण से लोग परेशान।

aajtakmedia

चमारी के पास हुआ एक्सीडेंट,ड्राइवर को नींद आने से पलटा ट्रक।

aajtakmedia

Leave a Comment