[t4b-ticker]
उत्तरप्रदेश कालपी जालौन

ओवरलोड वाहनों के गुजरने से सड़के हो रही क्षतिग्रस्त।

संपादक – संतोष कुमार निरंजन

कालपी (जालौन) कालपी एवं आसपास खनिज एवं परिवहन माफिया एक बार फिर से बेखौफ हो गये है। सड़को से ओवरलोड बालू तथा मौरम लदे वाहन फर्राटा भरने लगे है। फलस्वरूप सरकार को राजस्व का चूना लग रहा है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार तहसील कालपी एवं सीमावर्ती वेतवा नदी के तट मे 8-9 घाटों मे बालू की खदानों का संचालन हो रहा है। जिनमे कन्डोरा, वेरी, बड़ी मंडी, बसरेही चंडौत आदि घाट शामिल है। नियमनुसार खदानों मे सी. सी. टी. वी. कैमरे तथा धर्मकांटा स्थापित करना चाहिए। लेकिन खादान संचालको की वजह से यह व्यवस्था हवा हवाई हो कर रह गये है। खादानो से निर्धारित क्षमता से अधिक मौरम को ओवरलोड ट्रको मे लादकर रवाना करने का धंधा खूब फल फूल रहा है। बीते पखवारे उपजिलाधिकारी कालपी जयेन्द्र कुमार, सी.ओ राजीव प्रताप सिंह, कालपी कोतवाली प्रभारी निरीक्षक आर. के. सिंह कदौरा थाना प्रभारी निरीक्षक जितेंद्र सिंह एवं खनिज विभाग की टीम ने कालपी एवं कदौरा क्षेत्र मे अभियान चलाकर आधा सैकड़ा से अधिक ओवरलोड वाहनों को पकड़ – पकड़कर सीज़ करने की कार्यवाही की थी। एक एक ओवरलोड ट्रक से लगभग डेढ़ – डेढ़ लाख रुपए विभागों के द्वारा जुर्माना बसूला गया था। लेकिन एक बार फिर से ओवरलोड बालू एवं गिट्टी लदे ट्रको का संचालन शुरू हो गया है। ओवरलोड गाड़ियों के गुजरने से सड़के भी क्षतिग्रस्त हो रही है।

एजेंट हुये सक्रिय

बीते दिनों चेकिंग के कारण घाटों मे गाड़ियों के पहुंचना कम हो गया था। इसी को मद्देनज़र रखकर खदान संचालको ने अपने – अपने एजेंटो को जगह -जगह लगा दिया है। खदान मे वाहन पहुंचाने वाले एजेंट को मिशन के तौर पर 500 रुपए खदान संचालक के द्वारा दिये जा रहे है।

Related posts

कन्याओं ने कार्तिक पूर्णिमा पर माह का अंतिम स्नान कर यमुना नदी में किया दीपदान।

aajtakmedia

कानपुर में 1,300 कछुए जब्त किए गए, चंबल सेंचुरी को संरक्षित करने को खतरा बढ़ा।

aajtakmedia

समाजवादी पार्टी के नेताओं ने मृतकों के परिजनों से मुलाकात कर दी सद्भावना।

aajtakmedia

Leave a Comment