[t4b-ticker]
उत्तरप्रदेश कालपी जालौन

ग्रामीण क्षेत्र के यात्रियों के लिये परिवहन सुविधाओं का अभाव, डग्गामार वाहनों से यात्रा करने को मजबूर।

संपादक – संतोष कुमार निरंजन

कालपी (जालौन) परिवहन विभाग की उपेक्षाओ के चलते तहसील मुख्यालय कालपी तक आने जाने के लिये ग्रामीण क्षेत्र के वाशिदों को सीधी परिवहन सेवा नहीं मिल पाती है फलस्वरूप गाड़िया बदल बदल कर मुसाफिरों को यात्रा करने के लिये मजबूर होना पड़ता है। इससे समय एवं धन की बर्बादी होती है।

उल्लेखनीय हो कि कालपी तहसील क्षेत्र मे 244 राजस्व ग्राम आते है। जिसमे कदौरा एवं महेवा विकास खंडो के मुख्यालय भी है। कदौरा, परासन, ववीना, इटौरा क्षेत्र के लोगों को कालपी आने जाने के लिये पहले जोल्हूपुर मोड़ मे उतरना पड़ता है बाद मे दूसरी गाड़ी बदलकर कालपी तक जाना पड़ता है। इसी प्रकार महेवा, न्यामतपुर, चुर्खी आदि क्षेत्र के लोगों को गाड़िया बदल बदलकर कालपी तक का सफर करने को मजबूर होना पड़ता है।

चूकि कालपी से जोल्हूपुर मोड़ तक राष्ट्रीयकृत मार्ग है इसमें प्राइवेट बसों को परमिट उपलब्ध नहीं है। इसलिए प्राइवेट बसों का संचालन 5 किलोमीटर के रास्ते मे नहीं होता है इसी प्रकार परिवहन निगम की रोडबेज बसें भी इस रूट मे नहीं चलती है। फलस्वरूप डग्गामार पिकप, लोडर, जे. एस. ए. वाहनों से यात्रियों को सफर करना पड़ता है जनहित मे जिला प्रशासन एवं परिवहन निगम के उच्च अधिकारियो से अपेक्षा है कि यात्रियों को बेहतर सुख सुविधाएं प्रदान करने के लिये आवश्यकतानुसार वाहनों का संचालन कराया जाये।

Related posts

तेज तर्रार सागर चौकी उपनिरीक्षक संजीव कटियार ने पकड़े 8 जुआड़ी,13GAct में चालान कर भेजा जेल।

aajtakmedia

प्रेम प्रसंग में लगायी युवक- युवती ने फाँसी।

aajtakmedia

सेठ बद्री प्रसाद महा विद्यालय इंटरमीडिएट के मेधावी छात्रों का सम्मान 7 अगस्त को करेगा।

aajtakmedia

Leave a Comment