[t4b-ticker]
उत्तरप्रदेश कोंच जालौन

वार्डबॉय के स्थानांतरण पर बड़े भावभीने तरीके से हुआ बिदाई समारोह।

 

कोंच(जालौन) मुहल्ला जबाहर नगर स्थित राजकीय आयुर्वेदिक चिकित्सालय में वार्ड व्याय के पद पर पदस्थ अर्जुन सिंह का दिन बुधवार को रुंधे हुए गले के साथ बिदाई समारोह का आयोजन किया गया प्राप्त जानकारी के अनुसार राजकीय आयुर्वेदिक चिकित्सालय में बर्ष 2014 से वार्ड व्याय के पद पर रहते हुए अर्जुन सिंह आने वाले मरीजों को अपनी मधुर वाणी से सम्मोहित करते हुए सेवाएं दे रहे थे और उनके वारे में कहा भी जाता है कि आने वाला बीमार मरीज जैसे ही अर्जुन सिंह को देखता है तो उनकी मिलन सार मुस्कान से मरीज का आधा रोग तुरन्त ही सही हो जाता है यह मात्र अतिश्योक्ति नहीं है बल्कि मरीजों का कथन है ऐसे मिलनसार मृदुभाषी वार्ड व्याय का शासन द्वारा जनपद झांसी के लिए स्थान्तरण कर दिया गया जैसे ही वार्ड व्याय के स्थान्तरण की जानकारी उनके सह कर्मियों को हुई तो उन्हें अपने साथी से अलग होने का बड़ा ही खेद हुआ लेकिन स्थानांतरण एक सतत प्रक्रिया है जो सेवा काल मे हर व्यक्ति को स्वीकार करना पड़ता है इसी को लेकर राजकीय आयुर्वेदिक चिकित्सालय परिसर में बिदाई समारोह का आयोजन किया गया जिसमें चिकित्साधिकारी डॉ जितेंद्र वर्मा की अगुआई में चीफ फार्मेशिष्ट प्रेम किशोर रिछारिया फार्मेशिष्ट अवधेश दीक्षित कैलिया से प्रताप सिंह निरंजन अमृत लाल ने माला पहनाकर अर्जुन सिंह को का स्वागत किया वहीं स्टाफ नर्स बन्दना कुशबाहा एवं शांती देवी ने पुष्प गुच्छ भेंट किये कार्यक्रम में कैलिया से आये फार्मेशिष्ट प्रताप सिंह निरंजन ने अर्जुन सिंह को अंग वस्त्र भेंट किये वहीं अमृत लाल ने टिपिन बॉक्स भेंट किया इसके उपरांत उपस्थित स्टाफ ने दुखी मन से अर्जुन सिंह के साथ स्वल्पाहार ग्रहण किया इस दौरान डॉ जितेंद्र वर्मा ने बोलते हुए कहा कि ट्रांसफर एक सतत प्रक्रिया है जिसे हर सेवा कर्मी स्वीकार करता है लेकिन सेवा कर्मी जो भक्त अपने सह कर्मियों के साथ गुजारता है उसे कभी भुलाया नहीं जा सकता और फिर अर्जुन सिंह जैसे मिलनसार एवं मृदुभाषी सह कर्मी को भूल पाना सम्भव नहीं है वहीं चीफ फार्मेशिष्ट प्रेम किशोर एवं फार्मेशिष्ट अवधेश और प्रताप सिंह निरंजन ने बोलते हुए कहा कि आज अर्जुन सिंह को विदा करते हुए हम लोगों को बहुत ही कष्ट हो रहा है क्योंकि अर्जुन सिंह के मिलनसार स्वभाव के कारण हमारे स्टाफ के ही नहीं हमारे परिवार के सदस्य के रूप में बसे हुए है ऐसे में उन्हें स्थानांतरण बिदाई देना हम लोगों को वज्राघात से महसूस हो रहा है और इतना कहते ही सभी लोगों की आंखे नम हो गईं।

Related posts

बृम्हलीन संत चैतन्य दास जी की स्मृति में हुआ विशाल भंण्डारे का आयोजन।

aajtakmedia

नदीगांव में माँ सिंह बहिनी की शोभा यात्रा में युवाओ में दिखा भरपूर जोश।

aajtakmedia

जनपद में बाजार खुलने का समय सुबह 10 बजे सुबह से शाम 6 बजे तक किया गया।

aajtakmedia

Leave a Comment

error: Content is protected !!