[t4b-ticker]
उत्तरप्रदेश कालपी जालौन

माफियाओं ने दिलाया कब्ज़ा दबंगों ने बनाया पत्रकार पर दबदबा।

 

 

कालपी (जालौन) पौराणिक, ऐतिहायसिक व यमुना तट पर स्थित, बुन्देलखण्ड का प्रवेश द्वार नगर कालपी जो प्राकृतिक सौंदर्य से भरा है जहाँ का वन क्षेत्र भी नगर कालपी की सुंदरता में चार चाँद लगा देता है वहीं इस सुंदरता में दाग लगाने वाले भू-माफिया अंग्रेजों की तर्ज पर दबंगों को कब्ज़ा कराने में अहम भूमिका निभाकर नगर की छवि तथा उसके मानचित्र को विकृत कर रहे हैं। भू-माफियाओं का गिरोह यहाँ इस कदर हावी है कि यहाँ का प्रशासन मूक बना तमासा देखने को मजबूर है। इन माफियाओं ने नगर में दहशतगर्दी फैलाकर लोगों को भय युक्त जीवन जीने को मजबूर कर दिया है। आपको बताते चलें कि जनपद जालौन की नगरपालिका कालपी के यमुना तट पर स्थित नरर्सिंह टीला मन्दिर के पास वन विभाग की खाली पड़ी जमीन पर हरे भरे पेड़ पौंधों को काट भूमाफियाओं की शय पर कुछ महीनों पहले अराजक तत्वों ने अस्थाई निवास बना लिया था जिसके चलते कई बार हिन्दू संगठन हिन्दू जागरण मंच के जिलाध्यक्ष नीलाभ शुक्ला ने अपनी टीम के साथ वन विभाग के मण्डल अधिकारियों, डिफ्टी रेंजर, रेंजर कालपी सहित नगर पालिका को भी अवगत कराते हुए कार्यवाही की माँग की किन्तु भूमाफियाओं की दहशत के चलते किसी भी अधिकारी ने इन पर कार्यवाही करने की जहमत नहीं उठाई। आश्चर्य की बात तो तब हो गई कि जब वन विभाग की जगह पर नगर पालिका के दलालों ने अपने चहेतों को प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ देकर उस अवैध जगह पर निर्माण कार्य शुरु करा दिया जबकि नेशनल हाइवे के किनारे दुर्गा मन्दिर के पीछे बने शिक्षा के मन्दिर सरकारी प्राथमिक विद्यालय को जहाँ देश के नवनिहालों का भविष्य बनना था उसे अवैध घोषित कर वन विभाग ने अपनी कर्तव्यनिष्ठा दिखाते हुए तोड़कर गिराने का फरमान जारी कर दिया। विभाग के इस तरह के कुकृत्य पहली बार नहीं नगर में कई बार सुर्खियों में आ चुके हैं। अब यहाँ बताना ये भी जरूरी है कि भूमाफियाओं के संरक्षण के चलते वन विभाग की जगह पर लगातार चल रहे अवैध कब्जे व निर्माण में पढ़े लिखे, कानून का ज्ञान रखने वाले डॉक्टर विनोद पाल भी शामिल हो गये हैं जिनका कोतवाली रोड शालीमार गार्डन के सामने बिना नाम का एक अवैध रूप से संचालित अस्पताल भी है जहाँ मरीजों का इलाज किस आधार पर किया जाता है ये एक जाँच का विषय है। नरर्सिंह टीला के पास मूलनिवासी जनपद ललितपुर डा. विनोद के अवैध कब्ज़ा करने के बाद पत्रकारों व सामाजिक संगठनों के कार्यकर्ताओं को जान से मारने की धमकी से डा. पाल के मंसूबे साफ नजर आ रहे हैं जिसका कारण उसका फ़र्ज़ी पत्रकार व पूर्व में हिन्दू युवा वाहिनी सहित राजनैतिक गतिविधियों में शामिल होना भी बताया जा रहा है। अब देखना ये है कि कालपी में भू-माफियाओं द्वारा लगातार चल रहे अवैध कब्जों से वन विभाग के आला अधिकारी विभागीय जमीनों को बचा पाते हैं या इनकी दहशत के आगे अधिकारी नतमस्तक होकर आत्मसमर्पण को मजबूर होंगे।

Related posts

कैलिया पुलिस ने शांति भंग करने वाले दो व्यक्तियों को किया गिरफ्तार।

aajtakmedia

नदीगांव थाना में पीस कमेटी की मीटिंग सम्पन्न।

aajtakmedia

सीएचसी में दो चिकित्सकों ने संभाला चार्ज, स्त्री रोग विशेषज्ञ की तैनाती से मरीजों को मिली राहत।

aajtakmedia

Leave a Comment

error: Content is protected !!