उत्तरप्रदेश कोंच जालौन

अक्षय तृतीया (अकती) के पावन पर्व पर बच्चों ने किया पुतरा-पुत्रिया का विवाह।

कोंच(जालौन) कोंच क्षेत्र ग्रामीण क्षेत्रों में अक्षय तृतीया पर गुड्डा गुड़िया का विवाह जिसे बुन्देलखंडी भाषा में पुतरा पुतरिया का भी विवाह कहा जाता है, कराया गया। हालांकि कोरोना के मद्देनजर इस बार इस त्यौहार में एक दुक्का बच्चियां ही आकर गुड्डा गुड़िया के लिए बरगद के पेड़ की पूजा कर विवाह सम्पन्न कराया। कई लोग घर पर ही बरगद की छोटी सी डाली ले गए और घर पर ही पूजा अर्चना कर विवाह सम्पन्न कराया। जहां प्रतिवर्ष इन त्यौहार पर जहां बच्चियों के साथ छोटे बच्चे और तो और महिलाएं भी बरगद के पेड़ को पूजने आती थीं फिर धूमधाम से गुड्डा गुड़िया का विवाह होता था लेकिन इस बार ऐसा कुछ भी कोबिड 19 वायरस के मद्देनजर नहीं हुआ। कुछ ही बच्चियां गुड्डा गुड़िया की पूजा अर्चना व विवाह करती देखीं गईं। इस दौरान छोटे बच्चे बच्चियां भी मुंह पर मास्क लगाए हुए थे।अक्षय तृतीया के अवसर पर अक्षय तृतीया के बारे में भागवताचार्य/श्रीरामकथा वाचक सुनील पाठक ने बताया कि अक्षय तृतीया के दिन का विशेष महत्व होता है। उन्होंने बताया कि आज के दिन मनुष्य जो भी पुण्य कार्य करता है वह अक्षय हो जाते हैं अर्थात उन पुण्य कार्यों को मिटाया नहीं जा सकता है। उन्होंने कहा कि आज के दिन सभी लोग गौमाता की, देवी देवताओं की, संतों की पूरे मनोयोग से पूजा करें, सेवा करें व अर्चना करें और अक्षय पुण्य लाभ प्राप्त करें। सुनील पाठक ने बताया कि आज के दिन ही भगवान विष्णु के अवतार परशुराम जी का प्राकट्य हुआ था। आज के दिन ही माँ गंगा का धरती पर आगमन हुआ था। उन्होंने बताया कि आज के दिन हर प्रकार के शुभ कार्य किये जा सकते है।और किसान भी अपने अपने खेतों सुबह 5बजे सुभ मुहूर्त में हराते लेते और अपने घरों के बाहर रखते है।

Related posts

जिला बदर अपराधी को किया गया गिरफ्तार अभियुक्त के पास से जिंदा कारतूस व तमंचा बरामद।

aajtakmedia

अन्ना जानवरों को बचाने के चक्कर में पलटा ट्रक , चालक व हेल्पर घायल।

aajtakmedia

सोमवार को बाजार व बैंकों में हुई भारी भीड़ उड़ी सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां।

aajtakmedia

Leave a Comment

error: Content is protected !!