[t4b-ticker]
उत्तरप्रदेश गोहन जालौन

थाना और चौकी पुलिस ने नहीं की सुनवाई तो फरियादी ने पुलिस अधीक्षक से गुहार लगाई।

 

गोहन थानाध्यक्ष व ईंटों चौकी इंचार्ज ने नहीं की सुनवाई।

उरई (जालौन)- माननीय योगी सरकार के सख्त निर्देश हैं कि प्रत्येक फ़रियादी की सुनवाई अवश्य की जाये! परंतु कुछ चौकी इंचार्ज व थानाध्यक्ष अपनी मनमानी कर रहे है उन पर योगी जी के आदेश का कोई असर नहीं पड़ता! एक दलित की सुनवाई चौकी इंचार्ज ईंटों अर्जुन सिंह व थानाध्यक्ष गोहन राजीव बैस द्वारा नहीं की गई! दस दिन तक सुनवाई ना होने पर प्रार्थी ने न्याय प्रिय पुलिस अधीक्षक यशवीर सिंह से न्याय की गुहार लगाई है! दिये गये प्रार्थना पत्र के अनुसार ग्राम अजीतापुर निवासी राजू को ग्राम के ही सददीक व फ़ारुख ने जातिसूचक गाली देकर अपमानित किया था व प्रार्थी के साथ अभद्रता, गाली गलौज एवं मारपीट की थी! जिसकी शिकायत राजू ने चौकी इंचार्ज अर्जुन सिंह से की तो चौकी इंचार्ज ने उसे बुरी तरह फटकार कर भगा दिया! तब प्रार्थी ने गोहन थानाध्यक्ष राजीव बैस को प्रार्थना पत्र दिया! दस दिन तक थानाध्यक्ष द्वारा कोई कार्यवाही ना किये जाने से दूसरे पक्ष के हौसले और बुलंद हो गए और उसे पुनः अपमानित किया गया!प्रार्थी ने पुलिस अधीक्षक महोदय को प्रार्थना पत्र देकर न्याय की गुहार लगाई है! जहां एक और माननीय योगी जी व उच्च अधिकारी जनता की तुरंत सुनवाई व उनसे अच्छे व्यव्हार के लिए दिशा निर्देश जारी करते हैं! परंतु फ़िर भी ईंटों चौकी इंचार्ज द्वारा राजू को दलित होने के कारण बुरी तरह फटकार कर भगा देना अशोभनीय व गलत है! गोहन थानाध्यक्ष राजीव कुमार वैस द्वारा आखिर दस दिन तक सुनवाई क्यों नहीं की गई यह संदेहास्पद है! क्या द्वितीय पक्ष से किसी दवाब, सांठगांठ या जेब गर्म होने के कारण या सुनवाई नहीं की गई!

Related posts

गर्भवती महिलाओं और बच्चों का टीकाकरण कर दी गयी दवाएं।

aajtakmedia

जिलाधिकारी का आदेश अगर पशु छुट्टा पाये गए,तो मालिक पर लगेगा जुर्माना।

aajtakmedia

संत कबीर नगर के थाना धनघटा के ग्राम मुहठी खुर्द को किया गया सील।

aajtakmedia

Leave a Comment