[t4b-ticker]
Top News उत्तरप्रदेश लखनऊ

यूपी पंचायत चुनाव-2021- ग्रामप्रधान, जिला पंचायत सदस्‍य, बीडीसी व ग्राम पंचायत सदस्यों के लिए निर्वाचन आयोग ने जारी किए चुनाव चिह्न।

लखनऊ (उत्तर प्रदेश ) उत्तर प्रदेश में आगामी दिनों में होने वाले त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों में अपनी दावेदारी करने वाले प्रत्याशियों के लिए राज्य निर्वाचन आयोग ने चुनाव चिन्हों की सूची जारी कर दी है।आयोग के अनुसार इस बार के पंचायत चुनाव में 2010 में जारी चुनाव चिन्हों का ही प्रयोग किया जा रहा है। ग्राम पंचायत प्रधान पद के लिए कुल 48 चुनाव निशान निर्धारित किए गए हैं जबकि जिला पंचायत सदस्य पद के लिए 45 निशानों का विकल्प होगा।
बताते चलें कि त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को लेकर शासन-प्रशासन की ओर से जोरशोर से पूरी तैयारी की जा रही है। सभी पदों के लिए पर्याप्त मतपत्र मंगाए जा चुके हैं। चुनाव चिन्हों का निर्धारण भी हो चुका है। इस बार प्रधानी के दावेदार जहाँ तोप, त्रिशूल, खड़ाऊं जैसे चुनाव चिन्हों के साथ मैदान में उतरेंगे तो वहीं जिला पंचायत सदस्य पद के दावेदार आरी, गिलास, कैंची जैसे निशान पर मतदाताओं से मुहर लगाने की अपील करते नजर आएंगे। क्षेत्र पंचायत सदस्य(बीडीसी) के लिए भाग्य आजमाने मैदान में उतरे प्रत्याशियों को तलवार और शहनाई जैसे चुनाव चिन्हों का प्रचार करना होगा। बीडीसी सदस्य पद के प्रत्याशियों को 36 प्रकार के चिन्हों में से चुनाव चिन्ह आवंटित किए जाएंगे। ग्राम पंचायत सदस्य पद के लिए 18 प्रकार के चुनाव निशान तय किए गए हैं। अधिकतर चुनाव निशान ऐसे हैं, जिनका हमारे रोजमर्रा के जीवन में उपयोग होता है और लोग उन निशानों से भलीभाँति परिचित होते हैं। पंचायत चुनाव में वर्षों से चले आ रहे चुनाव निशान जैसे अनाज ओसाता हुआ किसान, इमली व कन्नी इस बार भी नजर आएंगे। ग्रामीण क्षेत्रों में यातायात का साधन रहा “तांगा” भी इस बार चुनाव चिन्ह के रूप में प्रयोग किया जाएगा। किसी भी प्रत्याशी के पास चुनाव चिन्हों को चयन का विकल्प नहीं होगा। नियमानुसार नाम के पहले अक्षर के अनुसार ही प्रत्याशियों को निर्वाचन अधिकारी की ओर से ही चुनाव निशान आवंटित किए जाएंगे। अलग-अलग पदों के लिए अलग-अलग चुनाव चिन्ह निर्धारित किए गए हैं। प्रत्याशियों की संख्या के अनुसार इन्हीं में से क्रमवार ऊपर से नीचे की ओर चुनाव चिन्हों का आवंटन किया जाएगा।

Related posts

बख्सेश्वर पर मूर्ति स्थापना के बाद हुआ भंडारे का आयोजन।

aajtakmedia

एडीएम ( नमामि गंगे एवं जलापूर्ति) द्वारा दो गांवों की रिट्रोफिटिंग के कार्य का किया गया निरीक्षण।

aajtakmedia

नवरात्र के समापन पर पंचनद धाम के संगम पर किया गया देवी मूर्तियों का भव्य विसर्जन।

aajtakmedia

Leave a Comment