[t4b-ticker]
उत्तरप्रदेश कालपी जालौन

बजूद वाले नेताओं ने पंचायत चुनाव में झोंकी ताकत।

संपादक – संतोष कुमार निरंजन

कालपी (जालौन) आगामी त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव मे भाले ही अभी सीटों का आरक्षण नहीं घोषित हुआ है लेकिन कालपी क्षेत्र के बजूद वाले कई नेता अपनी – अपनी सीटों पर अपने पारिवारिक जनों को चुनावी मैदान मे उतारने के लिये ताना -वाना बुनने लगे है।

मालूम हो कि कालपी तहसील मे दो ब्लॉक प्रमुख तथा पांच जिला पंचायत की सीटें है जिनमे ववीना, चतेला, इटौरा, महेवा तथा चुर्खी शामिल है। पिछली बार महेवा दोनों ब्लॉक प्रमुखों तथा चार जिला पंचायत की सीटों मे समाजवादी पार्टी ने कब्ज़ा जमाया था। यहाँ तक की ववीना सीट से जीती फरहा नाज़ का जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी मिली थी। लेकिन एक माह के अंदर फरहा नाज़ का बीमारी के चलते निधन हो गया था। स्वर्गीय फरहा नाज़ के पाती हाजी अजहर वेग, ठेकेदार हाजी अनीस खां एवं उनके पारिवारिक का जिला पंचायत सीट से पुनः मैदान मे उतर सकता है। बताते है कि ववीना या चतेला सीटों पर उनकी निगाहेँ है। इसी तरह तिरही निवासी विजय सिंह यादव नन्ना तथा धमना गांव के प्रधान रहे शिव बालक सिंह यादव भी मैदान मे उतर सकते है। अकबरपुर -इटौरा सीट मे भाजपा किसान मोर्चा के जिला अध्यक्ष नरेंद्र द्विवेदी मवई, अमित द्विवेदी इतिहास इटौरा तथा पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष अमित तिवारी उसरगांव काफ़ी सक्रिय है।

महेवा विकास खंड मे महेवा एवं चुर्खी की जिला पंचायत सीटें है। इन दोनों सीटों के लिये पूर्व विधायक छोटे सिंह चौहान के पुत्र रजत सिंह चौहान, वार एसोसिएशन कालपी के अध्यक्ष अमर सिंह निषाद, भाजपा नेता उरकरा कला सक्रिय है। वहीं चुर्खी सीट पर कई बार कब्ज़ा जमा चुके चौधरी विष्णुपाल सिंह या उनका पारिवारिक जन मैदान मे उतर सकता है।

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव मे पूर्व विधायक प्रतिनिधि एवं पूर्व ब्लॉक प्रमुख सुरेन्द्र सिंह सरसेला, पूर्व ब्लॉक प्रमुख समर सिंह चौहान गुड्डू महेवा, पूर्व मंत्री श्रीराम पाल आदि नेताओं की सक्रियता रहेंगी। भाजपा अपने अधिकृत उम्मीदवारो को मैदान मे उतारेंगी इसलिए विधायक नरेंद्र सिंह जादोन समेत दिग्गज भाजपा नेता अपनी उपस्थित का अहसास कराएँगे।

Related posts

भारत विकास परिषद कोरोना काल में अनाथ हो गए बच्चों की शिक्षा-दीक्षा की लेगा जिम्मेदारी।

aajtakmedia

अनिल नीखरा

यमुना नदी में डूबे किशोर की लाश प्रशासन की काफी मशक्कत के बाद जालौन माता मंदिर के पास यमुना नदी में मिली।

aajtakmedia

Leave a Comment